Breaking News

कर्मयोगी शिक्षक की व्यथा

कर्मयोगी शिक्षक की व्यथा

मन की एक व्यथा आज मैं बतलाती हूँ
 मैं एक प्राइमरी टीचर  कहलाती हूँ
गर्व है मुझको ऐसा कहलाने मे
वर्षों लगे मुझे इस बात को अपनाने मे
ज्वाइन किया था मैंने इसको जब
जोश दौड़ता था रगों मे मेरी तब
आज भी जोश मेरा कम नही है
शिक्षक हूँ इसका कोई गम नही है
होता बस दुःख मुझे इस बात का
काश मिल जाए एक साथी किसी काम का
हो जुनून उसमे भी पढ़ाने का मेरे जैसा
तो पूरा हो जाए सपना मेरा जैसा सोचा मैंने वैसा
एक से भले दो होते हैं और दो से भले चार
 गर होता विद्यालय मेरा शिक्षकों से गुलज़ार
बच्चों को मिल पाती गुणवत्ता शिक्षा की
बनता उज्ज्वल भविष्य देश का
कमी है बस एक अच्छे सिस्टम की। 
एक शिक्षक से पूरे स्कूल नही चला करते
पर भरे स्कूलों मे अच्छे शिक्षक भी नही मिला करते
भारत मे स्कूलों की तस्वीर तब बदल पायेगी
जब शिक्षकों के मन मे सद्कर्मों की लौ जल पायेगी

✍️    
क्षीरजा अग्निहोत्री (सoअ)
 प्राo विo ठाकुरपुर नंo-02
 ब्लॉक- भटहट, गोरखपुर         
          उoप्रo

1 comment:

  1. बहुत ही अच्छी सोच है काश यही सोच भारत के हर एक शिक्षक मे होता. आप का लेख हम अबश्य पढता हु हम तो बिहार से हु. और एक प्राइवेट स्कूल का टीचर हू

    ReplyDelete