Breaking News

Showing posts with label कविता तिवारी. Show all posts
Showing posts with label कविता तिवारी. Show all posts

वीरों की आहुति

August 15, 2017
आज़ादी के रण में वीरों ने सब कुछ वारा था, रहे तिरंगा ऊंचा हरदम हम सबका ये नारा था। यौवन पुष्पित हुआ तभी, प्राणों ने पिंजर छोड़ा था, भा...Read More

मत छीनो मेरा बचपन

November 14, 2016
मत छीनो मेरा बचपन, मुझे खुली हवा में जीने दो। बस्ते को मत बोझ बनाओ, खेल-खेल में सीखें दो। नन्हें-नन्हें पर हैं मेरे, आसमान में उड़ने दो। घर ...Read More

दादा-दादी व नाना-नानी दिवस की प्रासंगिकता

September 30, 2016
         जब समाज से संस्कार, सज्जनता, सरलता, सहृदयता, एक दूसरे के प्रति सम्मान का भाव जैसे मानवीय मूल्यों का ह्रास होने लगता है तब हमें इन...Read More

पुरस्कार के लिए याचना नहीं- एक संस्मरण

September 05, 2016
               गुरु जी ने प्रोन्नति होने पर नए विद्यालय में कार्यभार ग्रहण किया। आते ही देखा स्कूल में अव्यवस्थाओं की भरमार थी। गुरु जी ठह...Read More

स्कूल का सपना

August 05, 2016
पांच बेटियों के जन्म के बाद शम्भू को बेटे के रूप में औलाद मिली थी। बहुत ही पूजा-पाठ और मान-मनौतियों के बाद बेटे की मुराद पूरी हुई। अरसे बाद ...Read More