Breaking News

Showing posts with label हिन्दी ग़ज़ल. Show all posts
Showing posts with label हिन्दी ग़ज़ल. Show all posts

ख़्वाब तुम रखो

August 18, 2017
आसमाँ छूने का,भले ख़्वाब तुम रखो, मगर ज़मीं से भी नाता,लाजवाब तुम रखो। तुम्हारी कोशिशें भी,एक दिन रंग लायेंगी, बस अपने दिल में हौंसले...Read More

कविता का उपहार लिखे

August 06, 2015
भाव शिल्प रस लय में डूबी, कविता का उपहार लिखें आओ प्रियवर! हम तुम मिलकर सपनों का संसार लिखें अक्षर अक्षर रस बिखरा हो, पंक्ति पंक्ति मदम...Read More