Breaking News

प्रकृति

प्रकृति

शस्य श्यामला खेतो में
  बरस रही रिमझिम बारिश
मन उपवन पावन करती
   सब के मन को भाती बारिश
ये मृदु जल की नन्ही बूँदे
    जब गिरती धरती के तन पर
अनुभव होता मेरे मन को
भिगो रही है बरस बरस कर
    जब गिरती है चातक 
   पक्षी के मुख में 
ये स्वाति नक्षत्र की बूँदे
   प्यासे पक्षी को देती राहत
उसके मुख में जा धीरे धीरे
   जब ये गिरती सीप के भीतर
मोती का रूप धर लेती है
   जब गिरती है बारिश बनकर
 प्रकृति में हरियाली आती है
   लगता ये जग कितना सुंदर
 कितना निर्मल कितना पावन
    सबसे मेरा यही निवेदन
प्रकृति का मत करिए शोषण

✍️
रचयिता
श्रेया द्विवेदी
सहायक अध्यापक
प्राथमिक विद्यालय देबीगंज प्रथम
कड़ा कौशाम्बी

No comments