Breaking News

सैनिक के त्यौहार

सैनिक के त्यौहार

जश्न    है अपने   घरों में
              होली दीवाली      मनी है
पर वतन के   लाल    की
सरहद पे तो गोली चली है |

                जल रहे हैं दीप.   घर में
                रंग होली का      चढा़ है
सरहद-ए-हिन्दोस्तां   पर
रंज की गोली चली    है |

                घर में   बेटा     राह तकता
                मां नयन से    जल  बहाती
काश मेरा    लाल     आता
उसको मैं गुझिया खिलाती |

                अपनें आंचल से लगाकर
                खूब मैं उसको   खिलाती
लोरियां बचपन की किस्से
गांव के उसको    सुनाती |

                  बेटा पिचकारी चलाता
                  रंग खुशियों का उडा़ता
पर ज़हन में ही पिता की
याद से दिल सहम जाता |

                   बेटी कंगन हांथ में   यूं
                   सुबह से है खनखनाती
ज्यूं पिता को वो सुरीली 
तान से है घर   बुलाती |

                   पत्नी है. श्रंगार     करती
                   याद कर अपने सजन को
फक्र है महसूस     करती
सौंपकर उनको वतन को |

                   पिता रस्ते पर     खडे़ हैं
                   लाल की      रस्ता निहारें
शाम होने      आयी   पर
उम्मीद का सूरज निहारें |

                   धड़धडा़ते    वो    पटाखे 
                   गांव में  खुशियां     बहाते
सरहदों पर लाल    अपने
देश की गरिमा    बचाते |

                    टकटकी सरहद पे पर मन
                    गांव का   बचपन    निहारे
कट रही है     जिंदगी अब
चिट्ठियों   के    ही   सहारे|

                    कंधे पर      बंदूक रक्खे
                    आंखों से आंसू न  टपके
भीग जाए ना ये     गोली
आंसू हैं आंखों में  अटके |

                    देश की खातिर.     करे 
                    कुर्बान वो अपनी जवानी
ना  कोई        त्यौहार है 
ना ईद ना होली   मनानी |

                    रक्त की होली  वो     तोपों 
                    से है    दीवाली      मनायी
चूम   ली मिट्टी     वतन की 
मां की जब जब याद आयी |

✍️
अभिषेक बाजपेयी 
सहायक अध्यापक
प्रा0 वि0  तकियापुरवा निघासन 
लखीमपुर खीरी

No comments