Breaking News

अहसास

अहसास
************

अहसास रहा मेरा अपना
कुछ बातें मिलतीं यादों में
एहसान रहा उनका हमपर
जो बस गई मेरी यादों में
हम कहाँ यहाँ हैं बिखरे-से
वो कहाँ वहाँ पर चमक रहे
हम फिरते मारे-मारे हैं
वो फैले सारे जहाँ- जहाँ
हम धूल से भी हैं गये गुजरे
वो फूलों की महकती वादी हैं
हम पांव की जूती बन न सके
वह जड़े हुए हैं तारों में
हम शुक्रगुज़ार रहें उनके
जो यहाँ पे हमको बुला लिया
ये प्यार रहा उनका हम पर
जो सीने से हमको लगा लिया|

✍️
संदीप कुमार मेहरोत्रा(स0अ0) 
पूर्व माध्यमिक विद्यालय कररहा
वि0ख0- मिहींपुरवा 
जनपद-बहराइच

No comments