Breaking News

"प्रयास "

"प्रयास "

आओ प्रयास करे हम,
जीवन को सफल बनाए,
मातृभूमि को स्वच्छ कर
उजियारा फैलाए हम! 

जिस तरह बूंद - बूंद घड़ा भरे, 
निरंतर प्रयास करे हम 
छोटी - छोटी नदी बनके 
सागर बन जाए हम! 

छोटी - छोटी खुशियों को 
चलो बटोर लाए हम, 
धीरे- धीरे ही कदम 
चलते ही जाए जाए हम! 

छोटे-छोटे होंगे प्रयास हमारे 
एक दिन सफल हो जाएंगे 
मंजिल मिल जाएगी हमे भी 
निरंतर प्रयास करते जाए हम! 

✍️रचयिता
श्रेया द्विवेदी
सहायक अध्यापक
प्राथमिक विद्यालय देवीगंज प्रथम
कड़ा

No comments