Breaking News

भारत वर्ष महान

अपना भारत वर्ष महान् ।
माटी महके केशर जैसी,
पानी पीपल देव समान ।।

मस्तक इसका शुभ्र हिमालय,
धोये चरण नित रत्नालय ।
महाराष्ट्र, गुजरात, उड़ीसा,
प्यारा केरल, राजस्थान ।।

झरने मधुर गीत सुनाते ,
बादल शीतल जल बरसाते ।
गंगा, यमुना, सतलज, गोदा,
सरयू का जल क्षीर समान ।।

सूर, कबीर, मीराबाई,
देव, रहीम की कविताई ।
कवि भूषण ने किया जगत में ,
शिवा जी, छत्रसाल का गान ।।

रचयिता
प्रमोद दीक्षित ʺमलयʺ
सह-समन्वयक - हिन्दी,
बीआरसी नरैनी , जिला - बांदा 
79 ⁄ 18‚ शास्त्री नगर‚
अतर्रा – 210201‚ जिला– बाँदा‚ उत्तर प्रदेश
Mob. 09452085234
email :  pramodmalay123@gmail.com

No comments