Breaking News

असली ख़ुशी भरी दीवाली

जब भी इक मासूम फूल को अक्षर-ज्ञान करा पाता
बिलख-बिलखकर रोते चेहरों पर मुस्कान सजा पाता
दीवाली का दीया उस पल दिल में रोशन हो जाता
सब पायें ऐसी दीवाली, तन-मन पावन हो जाता

सूनी आँखें, कम्पित काया की जब लाठी बन पाता
या फिर कोई भोला बच्चा मुझमें ही सब-कुछ पाता
दीवाली का दीया........
सब पायें ऐसी दीवाली.......

जब भी किसी थके-हारे का थोड़ा बोझ उठा पाता
भव-दुःखों से तप्त नयन में हर्ष-बिन्दु छलका पाता
दीवाली का दीया........
सब पायें ऐसी दीवाली.......

जब भी जग के अन्धकार में थोड़ा टिमटिम कर पाता
ऊसर-बंजर धरती पर जब सुरभित सुमन खिला पाता
दीवाली का दीया........
सब पायें ऐसी दीवाली.......

जब भी मर्म-बात को सुनकर करुणा-विगलित हो जाता
ऊँचे-गहरे सत्त्व-भाव से उर को भरा हुआ पाता
दीवाली का दीया........
सब पायें ऐसी दीवाली.......

रचनाकार
प्रशांत अग्रवाल,
सहायक अध्यापक,
प्राथमिक विद्यालय डहिया,
विकास क्षेत्र फतेहगंज पश्चिमी,
जिला बरेली (उ.प्र.)।

No comments