Breaking News

ख्वाहिशें

ख्वाहिशें
------------

बचपन 
की 
ख्वाहिशें 
आज 
भी 
खत लिखती हैं 
मुझे..

शायद 
वो
बेखबर 
इस
बात 
से हैं
कि 
वो जिंदगी 
अब 
इस पते पर नही रहती..

✍️
राजीव कुमार
स. अध्यापक
पू. मा. वि. हाफ़िज़ नगर
क्षेत्र - भटहट
जनपद - गोरखपुर

No comments