Breaking News

मेरी बिटिया

आज बेटी दिवस पर मेरी कविता के साथ आप सबको नमन

मेरी बिटिया

अनुपम छवि ,आह्लादित मन,
वट वृक्ष की शाखाओं जस इतराती।
कोमलांगी,किसलय कली,
 मेरी बिटिया इठलाती।
'''''
भाव प्रगाढ़ है मन मे,
मन गंगा जस पावन।
कोकिल सा स्वर मोहित करता,
मेरी बिटिया जब गुनगुनाती।
''''''
लख उसको मन विह्वल होता,
व्याकुल जिया अंक लगाए।
घर -अंगना गमकता है जब मेरी बिटिया
    मुस्काती।
'''''
नटखट,गम्भीर, बाल सुलभ सुकुमारी,
पल-पल जाऊं वारि।
मेरे मन कि पीर हरे ,
         जब
मेरी बिटिया
मैं नैनन नीर बहाती।
''''''
मधुर रागिनी सी मेरे जीवन में,
 ताल मृदंग बजाए।
सुनी -सुनी सी अंखियन में,
    मेरी बिटिया
नूर जन्नत की दिलाये,
मेरी पीर हर जाए
मेरी पीर हर जाए।।।


ममताप्रीति श्रीवास्तव
गोरखपुर
 11-10-2020

No comments