Breaking News

एक ज़िंदा कलम पत्रकार..

एक ज़िंदा कलम पत्रकार..

कलम को लिखने का सामान नहीं ,
 तलवार की तेज धार बनाया है हमने ।
 महज बिकने वाली रोज की एक ताजा खबर नहीं ,
 आवाम की सोच को एक बुलंद आवाज बनाया है हमने।
शोलों पर चलते हुए शब्दों को सहज नहीं ,
जलता हुआ अंगार बनाया है हमने ।
कांटों का ताज सर पर पहनकर ,
कागज को ही कफन बनाया है हमने ।
 इरादों में सच का दम भरने वाली ,
फिज़ा का रुख बदलने वाली ,
तेज आंधी को रफ्तार बनाया है हमने ।
श्रृंगार लिखने वाला , चित्कार भी लिखने वाला ,
खुद को एक जिंदा कलम पत्रकार बनाया है हमने ।

          यह चंद पंक्तियां हमारे राष्ट्र के सजग प्रहरी पत्रकार बंधुओं को श्रद्धा सुमन के रूप में अर्पित हैं।

✍️
सुकीर्ति तिवारी
सहायक अध्यापक
कम्पोजिट पूर्व माध्यमिक विद्यालय करहिया, जंगल कौड़िया गोरखपुर

No comments