Breaking News

हिम्मत ना हारे

हिम्मत ना हारे

ना बेड
ना है दवाई
है ऑक्सीजन की कमी
और मौत सर पे छाई
किससे करे हम जीवन देने की दुहाई
जब सबपे ही बिपदा
एक ही समय आई
डॉक्टर भी बीमार
कौन करे इलाज
खाली एक भी ना कोना
कितनी दूर हो अस्पताल
कोई सांस ना ले पाए
कोई दर्द से छटपटाए
सबके दुखों को देख
खुद बीमार मन हो जाए
क्या है इसका इलाज
कुछ समझ ना आए
सबको कब तक मारता देखें
इतने क्यो है हम लाचार
एक वायरस की पकड़
जाने कब हाथ मे आए
कोई हिम्मत ना हारे
हो हौसलों की बात
सब एक साथ लड़ेंगे
पाएंगे इससे निजात
दूर होगी बीमारी
सब होंगे साथ _साथ
खाएंगे साथ में खाना
होगी मस्ती धमाल
चहकेंगे फिर से आंगन
होगी बगिया खुशहाल

✍️
साधना सिंह (स.अ.)
 खजनी
गोरखपुर

1 comment: