Breaking News

मेरा विद्यालय

घर आँगन सा है प्यारा ,              
मेरा विद्यालय सबसे न्यारा।     
जब यहाँ पर मैं आई थी ,            
जान न किसी को पाई थी।          
भाषा भी थी कुछ अलग अलग,   
बच्चे आते थे बदल बदल।         
देख सिर मेरा चकराया था,        
समझ में कुछ न आया था।
         
कुछ खो जाए कहते बह गयी ,    
मैं समझी कोई नदी पड़ी।           
कोई बच्चा यदि न आता ,           
कहते टेर लाएं क्या।                  
टेर मैने कब मंगाया था?            
सुन सिर मेरा चकराया था,         
समझ में कुछ न आया था।  
      
अगले दिन वह आया निकल ,    
पूछा क्यों नही आया कल।        
कहता मूड़ पिराता था,                
न जाने कौन सा रोग बताया था।
तब सिर मेरा चकराया था,          
समझ मे कुछ  न आया था।     
   
स्कूल ड्रेस क्यों न पहनी तुमने?  
कहते वो तो फीचि पड़ी।            
सुन-सुनकर उनकी बातें,            
मै तो यूँ ही स्तब्ध खड़ी।              
तब सिर मेरा चकराया था,         
समझ में कुछ न आया था।         

पर आज बदल गये हालात हैं ,   
वो सब मेरे साथ हैं।                   
मेरी डांट भी उनको प्यारी ,        
उनकी बातें मुझको भाती।           
कुछ मैने तो कुछ उन्होंने भी सिखाया है,
अपने पीछे मुझको बहुत दौड़ाया है।       
                
हम सब एक परिवार हैं ,           
रहते हरदम साथ है।                   
नहीं अब सिर मेरा चकराता है ,  
समझ में सब कुछ आता है।        
रचनाकार                  
अर्चना रानी,
सहायक अध्यापक,
प्राथमिक विद्यालय मुरीदापुर,
शाहाबाद, हरदोई।   

1 comment:

  1. Amazing ! (after saying this no need to describe anything)

    ReplyDelete