Breaking News

कविता

कविता
------------

कविता
यूं ही नहीं बन जाती
उसके पात्र
उससे जुड़े घटनाक्रम
या फिर उसकी
जीवंतता
अनजाने में बुना गया कोई स्वप्न नहीं होता
बल्कि
उसके एक-एक शब्द
विचार, भाव
और
उससे जुड़ी मन: स्थितियों के साथ
धड़कते हैं
हमारे - तुम्हारे संबंध
जो
बनाए रखते हैं उजास 
दिल के अंधेरों में
जैसे कि
मिट्टी में बंद उजाला
फूटकर बाहर आने को संघर्षरत हो...

✍️
राजीव कुमार
स. अध्यापक
पू. मा. वि. हाफ़िज़ नगर
क्षेत्र - भटहट
जनपद - गोरखपुर

No comments