Breaking News

सुख और दुःख

सुख और दुःख


जीवन में
कुछ भी स्थाई नहीं होता
कुछ भी नहीं
सुख और दुःख भी नहीं

जैसे कि
बाढ़ जाने के बाद
फिर से पनप जाता है नया जीवन
दुल्हन
भूल जाती है पीहर नये सम्बन्धों के साथ
प्रसव का दर्द
भुला देता है खिलखिला नया जीवन
ठोड़ी सी नीम की छांव पाकर भूल जाता है पथिक
जेठ की तपती दुपहरी
लौट गया पाहुन
छोड़ जाता है अपने पीछे कुछ खट्टे - मीठे निशान
नदी अपना सब कुछ छोड़ मिल जाती है
समुद्र में

मेरे दोस्त !
कुछ स्थाई नहीं होता जीवन में...

✍️
राजीव कुमार
स. अध्यापक
पू. मा. वि. हाफ़िज़ नगर
क्षेत्र - भटहट
जनपद - गोरखपुर

No comments