Breaking News

हम बेसिक के बच्चे हैं

हम बेसिक के बच्चे हैं
मन के हम सच्चे सच्चे हैं
शिक्षा की अलख जगाते हैं
हम पढ़ते और पढ़ाते हैं

अब्दुल कलाम और गांधीजी
भगत सिंह और आजाद जी
इनके जीवन को पढ़कर
उन सा बनने को हैं तत्पर

हम सोने जैसे कुंदन है
मेहनत की आग में तपते हैं
नन्हे नन्हे हाथों से हम
तकदीर संवारा करते हैं

कुछ कड़वे हैं कुछ मीठे हैं
जीवन के अनुभव खट्टे हैं
खेतों में धान रोपते हैं
संग में सपनों को बोते हैं

मां बनके कभी पिता जैसे
अनुजों का पालन करते हैं
पीठ पर बस्ते का भार नहीं
उम्मीदों को ढोया करते हैं

हम संस्कारों की चादर को
हर दम ओढ़े ही रहते हैं
गुरु के मान और सम्मान की
रक्षा को अग्रसर रहते हैं

हम बेसिक के बच्चे हैं
मन के हम सच्चे सच्चे हैं
शिक्षा की अलख जलाते हैं
हम पढ़ते और पढ़ाते हैं।

रचयिता  
मीनाक्षी भारद्वाज, स0अ0, 
प्रा0 वि0 भगवतीपुर घेर,
विकास खण्ड-सालारपुर,
जनपद-बदायूँ

No comments