Breaking News

मुझे जीने दो

कच्ची कली कर रही पुकार
माँ तुम ना मेरा करो संहार 

करुणा तेरी क्यों खोई खोई
पीड़ा तेरी क्यूँ खोई खोई 

सूरज चंदा और चमकते तारे
अँगड़ाई ले पूछ रहे हैं सारे

यदि तुम कर लोगी आँखे बंद 
सृष्टि का हो जायेगा अन्त

माँ कुछ तो बोलो
आँखे खोलो

मेरे जीवन मे भी
नवविहान होने दो

मुझे जीने दो
मुझे जीने दो।

रचयिता
डॉ0 उमा सिंह,
सहायक अध्यपाक,
उच्च प्राथमिक विद्यालय हारीपुर नवीन झंझरी,
जनपद - गोण्डा।

No comments