Breaking News

बढ़ता चल

बढ़ता चल बढ़ता चल
ये ज़िन्दगी एक जंग है
तू इससे लड़ता चल
ठहरा हुआ पानी
किसी काम नहीं आये
रुकने वाला कभी
मंज़िल नहीं पाए
तू बहती नदिया बनके
बहता चल
बढ़ता चल बढ़ता चल

ये ज़िन्दगी एक जंग है
तू इससे लड़ता चल
बिन मेहनत इंसा
कुछ भी नहीं पाए
आसमान की बुलंदी छू
नहीं पाए
तू अपने हौसलों से
उड़ान भरता चल
बढ़ता चल बढ़ता चल

ये ज़िन्दगी एक जंग है
तू इससे लड़ता चल
मन के हारे कभी कोई
जीत नही पाए
कोशिश बिन कभी कोई
कुछ नहीं पाए
तू अपने हाथों से तक़दीर
लिखता चल
बढ़ता चल बढ़ता चल

ये ज़िन्दगी एक जंग है
तू इससे लड़ता चल

रचयिता

अनुराधा प्लावत
स0अ0, उ०प्रा०वि०झरौठा,
बल्देव
मथुरा उ०प्र०


No comments