Breaking News

भला ऐसी सज़ा कोई चुनता भी है

डाँटकर माँ ने एक दिन चाँद से पूछ ही लिया
जब तुम बच्चों के मामा हो तो कुछ लाते क्यों नहीं
ये मेरा ससुराल है कुछ लिहाज़ तो रक्खो
रात को आते हो दिन में आते क्यों नहीं?
---------------------------------
कश्ती कागज़ की थी
फिर भी
किनारे पर ही रुकी
शुक्र है जिन्दा हैं
वरना मर तो कब के ही गए थे।
----------------------------
कांच  टूटा है कहीं
रह रह  कर चुभता है
खरोच देता है रूह को
कोई निशाँ भी नही छूटता
के दुनिया को दिखा सकें।
-----------------------------
चाल बिसातों की तो बहुत चली है हमनें
मगर वक़्त की चाल से मात खा रहे हैं
कभी बराबर रहे थे हम वक़्त के
फ़िलवक्त हारते हारते चले जा रहे हैं।
------------------------------
किताब बन जाएं दिल में चल रही बातें अगर
लोग हैरान होंगें हम क्या-क्या सोचते हैं ये जानकर
हम चुप ही रहे तो अच्छा है
लोग सुनते नहीं हमें पागल मानकर।
------------------------------
लिख के चंद शब्द सुकून पा लेते हैं
क्या मेरी कहीं कोई सुनता भी है
लो कलम भी छोड़ देते हैं तेरी ख़ातिर
भला ऐसी सजा कोई चुनता भी है।
-------------------+---------

No comments