Breaking News

हम पढ़ाते हैं

हम पढ़ाते हैं
देश की शान बढ़ाते हैं
हम भविष्य बनाते हैं
जी हाँ हम पढ़ाते हैं

माँ सी ममता
बाप सा दुलार
हम सारे फ़र्ज़ निभाते हैं
हाँ हाँ हम पढ़ाते हैं

भले बदरंग हो ज़माना
या कोई बदरंग फसाना
हम बेरंग को रंगीन बनाते हैं
हाँ हम पढ़ाते हैं

भाग दौड़ की दुनिया मे
जागृति के पथ पर
दौड़ना सिखाते हैं
जी हम पढ़ाते हैं

कभी थपकी देकर
कभी प्रेम लुटाकर
बालमन को ठहराते हैं
हम पढ़ाते हैं

देश की उन्नति हेतु
देश की समृद्धि हेतु
हम अपना सर्व गर्व से लुटाते हैं
क्योंकि हम पढ़ाते हैं

रचयिता 
आमिर फ़ारूक़
सहायक अध्यापक
उच्च प्राथमिक विद्यालय औरंगाबाद माफ़ी
विकास क्षेत्र सालारपुर
जनपद बदायूँ

No comments