Breaking News

प्रकृति

प्रकृति

विकास के आडम्बर से
तरुओं के विनाश से
अट्टालिकाओं के अट्टाहास से
ग्लोबल वार्मिंग, ग्रीन- हाउस के प्रभाव से
प्रकृति कराह रही है।।
स्वार्थी प्राणियों के
कुदरत के बनाएँ सन्तुलन को
पल-पल बिगड़ते देख
स्वस्थ सुन्दर खुसी देने वाली
प्रकृति कराह रही है।।
हरियाली से मन मोहने वाले
जीवनदायक आक्सीजन देने वाले।
ईश्वर प्रदत्त वृक्षो को
अंधाधुंध कटते देख
प्रकृति कराह रही है।।
चिड़ियों के मधुर कलरव से
प्रेयसी को चाँद की चादनी से।
नवनिहालो को टिमटिमाते
तारों की रौशनी से।
जीवनदायनी गंगा को रवि की किरणों से।
निर्धन असहायों को शीतल पवन के झोंको से।
अन्नदाता को वर्षा के फुहारों से।
वंचित होता देख
प्रकृति कराह रही है।।
वाहनों चिमनियों के उगलते
ज़हरीले गैसों से।
बढ़ते पर्यावरण प्रदूषण से
आग उगलते अल्ट्रवायलट किरणों से।
क्षरण होते ओजोन परत को
देख प्रकृति कराह रही है।।
कल-कल बहती नदियों में
आनंद का गोता लगाता मानव
चहचहाती चिडियों के मधुर ध्वनि में आसन लगायें मुनि।
अधरों पर शबनम की बूदों का रस लेता बचपन।
उपवन में झील झरनों के नयनाभिराम ओझल होने से
प्रकृति कराह रही है।।
रसायनों के प्रयोग से
विलुप्त हो रहें रंग बिरंगे पशु पक्षी।
खो रही गुलाबी ठण्डी शीतल बयार।
हर्षित वसुधा हो रही विमार।
होते दूषित वातावरण से
प्रकृति कराह रही है।।
आने वाली पीढियां को कैसे दे
सुरक्षित भविष्य।
कहि खो न दे..
सूर्योदय अपनी लालिमा।
आसमान अपना नैसर्गिक नीलापन
सफेदी ओढ़े आकाश में
टिमटिमाते तारे।
विनम्रता की सिख देते
फलों से लदे वृक्ष
कुदरत का तोहफ़ा शुद्ध जल
प्राण वायु को खोता देख
प्रकृति कराह रही है।।
कभी सुखा कभी सुनामी बाढ़ की।
कभी भूकंप की विनाश लीला से
चेत नही रहा है मान सच तो यह है
प्रकृति कराह रही है।।

✍ रचनाकार :
     रवीन्द्र नाथ यादव (स.अ.) 
     प्राथमिक विद्यालय कोडार उर्फ़ बघोर 
     नवीन क्षेत्र-गोला
     जनपद-गोरखपुर।

No comments