Breaking News

हम अपनी नजर में अच्छे है

हम अपनी नजर में अच्छे है।

सारी दुनिया जो भी समझे, 
हम अपनी नजर में अच्छे है।
उनको सफाई क्या हम दे, 
नजरों में जिसके हम अच्छे ही नहीं।
जो दिन प्रतिदिन गलती करते हैं, 
 दुनिया की नजरों से छिप करके।
उन्हें सब मालूम कोई देख रहा, 
उनको ना कोई परवाह जरा।
शायद वो सोचते है वो अमर है।
ये दुनिया ही सब कुछ उनके लिए। 
वो अपनी तरह ही सबको समझते है, 
अफसोस है उन जैसे बेशर्मो पर।
सारी दुनिया जो भी समझे, 
हम अपनी नजर में अच्छे है।
हम जो गुनाह करते हैं, 
छिप ना सके  उस ईश्वर से। 
ये सोच के दिल घबराता है। 
इसलिए गुनाह ना करते हैं। 
इसलिए हम मन के अच्छे है।
तन काला है तो क्या हुआ, 
मन के सीधे-साधे सच्चे है।
ये दुनिया एक धोखा है। 
जैसे समोसे मे घुसा चोखा है।
ये बात है सबको बतलानी, 
ये बात है सबको दिखलानी।
सारी दुनिया जो भी समझे, 
हम अपनी नजर में अच्छे है।


✍️
मो०जियाउल हक अंसारी (प्र०अ०) कम्पोजिट विद्यालय
सजीवन वि०क्षे०-बाँसगाँव, जनपद-गोरखपुर
(ए0आर0पी0 हिन्दी - खोराबार, जनपद-गोरखपुर )

No comments