Breaking News

हम नया भारत बनायें

हम नया भारत बनायें


सूरज के किरणों से होता,.
आशा का नया सवेरा ।
खुद रोशनी बन जगमगायें,
हम नया भारत बनायें ॥
    विश्व में अपनी ताकत दिखायें। 
    अतुल्य ज्ञान से गुरु बन जायें ।
    आयें मिलकर सबको जगायें,
    हम नया भारत बनायें ॥
पर्वतों के जैसा सर ऊँचा उठायें ।
नदियों के जैसा निर्मल हो जायें ।
कलियों सा कोमल बन जायें,
हम नया भारत बनायें ॥
    जाति -धर्म में समय न गवायें ।
    खुद के खातिर न दीये जलायें ।
   प्रतिभा को सर्वजन में दिखायें,
   हम नया भारत बनायें ॥ 
समता का भाव मन में जगायें ।
भौरों के जैसा सदा गुनगुनायें ।
दीन- दुःखियों को मिल हँसायें,
हम नया भारत बनायें ॥

✍️
 रवीन्द्र शर्मा 
 ग्राम - बेलवां बुजुर्ग, पो० - जद्दू पिपरा
जनपद - महराजगंज, उ०प्र० 

No comments