Breaking News

मन की अभिलाषा

जीवन का पथ बने सुगम,                              
पल हर पल यूँ बढ़ते जायें ।
राह चलें पथ पर पग-पग पर                              
नित नई सोच ले बढ़ते जाएं ।

अपने कर्त्तव्यों की सीमा को,
लांघकर कुछ कर दिखलाएँ।                     
बनें प्रेरणा उनकी हरदम,                       
जो छूटे और टूटे कहलाएं।             
जीवन का पथ :::::::

अपनी सुप्त आत्मा को निखारें,                     
और निज जीवन बहुमूल्य बनाएँ ।                   
ये तन मन धन क्या कर पाया,                  
सोचो जरा हम व्यर्थ क्यूँ गवाएँ।             
जीवन का पथ: :::::::::::::

बनें सहारा तिनके भर का ,                      
उन्नति कर सर ऊँचा पाएँ।                          
कमी न हो अपने प्रयासों में,                      
छूटे कमजोरों को राह दिखाएँ ।                 
जीवन का पथ: :::::::::

विज्ञान सिखाती क्रिया प्रतिक्रिया                   
अटल सत्य हम क्यूँ न अपनाएँ।            
बालक, शिशु, आश्रित, बुजुर्गों पर,            
सत्कर्मों को करते जाएँ।                            
जीवन का पथ: ::::::::

दुख आए जाए सुख देकर,                        
क्यों हम दोषी भाग्य को बतलाएँ।             
पायेंगे कल जो आज बोऐंगे,                            
नियम प्रकृति का क्यों झुठलायें।             
जीवन का पथ: :::::::::::

खुद का संरक्षण व संतति,   
इज्जत,शौहरत,दौलत भी बढ़ाएँ।                
जीवन का बहुमूल्य मूल्य हैं,                          
व्यर्थ एक पल क्यूँ हम गवाएँ।                    
जीवन का पथ: :::::::::::::::

हर जीवन अनमोल कीमती,                            
स्वीकारें सबको अपनाएँ ।                   
संस्कार और नैतिकता को,           
अपनाकर आगे बढ़ जाएँ।                   
जीवन का पथ: :::::::::

रखें ध्यान अपने दायित्वों का,                    
जीवन को अनमोल बनाएँ।                   
पायेंगे प्रयासों से सफलता,                           
कोशिश प्रतिपल करते जाएँ ।            
जीवन का पथ: :::::::::::

रचनाकार
श्रीमती नैमिष शर्मा  
सहायक अध्यापक
पूर्व माध्यमिक विद्यालय तेहरा   
वि०ख० मथुरा  
जिला- मथुरा


No comments