Breaking News

विश्वास

दो विश्वास हमें तुम इतना ,  
  टूट ना पायें हम कभी ।     
           
कर्तव्य पथ पर बढ़ते जाएँ ,  
भूलें ना हम राह सही ।
  हार की वेदी पर हम ,
  शीश ना कभी झुका पाएँ।              

चरण अभिनन्दन कर हिमगिरि का ,
अम्बर तक छा जाएँ ।                    
अन्धकार के पर्वत को ,                 
चूर चूर हम कर पाएँ ।          
        
तिलक लगाकर मातृभूमि का ,      
आगे कदम बढ़ाएँ ।                     
वेदों की भाषा को हम ,
  सम्पूर्ण विश्व में फैलाएँ,
 
जगत जननी माता के दर्शन ,        
सारे जहाँ को करवाएँ  ।                 
प्रेम हमारा हो इतना गहरा,            
जाति भेद को मिटा पाएँ ।
              
सूर्य अलौकिक होकर हम ,            
प्रकाश जगत में फैलाएँ । 

रचनाकार                  
अर्चना रानी,
सहायक अध्यापक,
प्राथमिक विद्यालय मुरीदापुर,
शाहाबाद, हरदोई।    
       

No comments