Breaking News

माँ और माँ की ममता

माँ तो बस माँ ही होती है,                                       
हर पल हर जगह होती है।                                
जिस आँगन में गूँजे किलकारी,                    
उस आँगन की माँ छाँव होती है। 
माँ तो बस माँ ही होती है।                                                                        

पल हरपल बढ़ता बचपन ज्यों,                        
माँ हैं खुश और ममता बढ़ती है।                         
नेय स्नेह वात्सल्य की वो मूरत                               
बयार सुगंध बन उपवन बहती है।            
माँ तो बस माँ ही होती है।                                                                                              
हर मौसम यूँ ही आए जाए             
हँसते-हँसते सब सहती है।                                            
आएगा कल जब ये उजला,                          
मोती बन निखरो कहती है।                                         
माँ तो बस माँ ही होती है।                                        
रहें खुशी से मेरे आत्मज,                                            
सब सुख और दुख भी सहती है।                                     
माँ तो बस माँ ही होती है।

माँ की ममता कठिन परीक्षा                              
पर हो सफल बयाँ करती है।                                            
बसंत बहार काली बदरी भी,                
मूक बयाँ करती रहती है।                                       
माँ तो बस माँ ही होती है।

माँ को देख देख कर सारी,                                        
फरियादें पूरी होती हैं।                               
भेद करो न तुम दोनों में,                      
बेटी बेटा हैं समान कहती है।  
माँ तो बस माँ ही होती है।                                                               
सम्मान मिले दोनों को हरदम,                                        
बेटी को क्यूँ मान नहीं ।              
दोनों है संतान जगत में,  
दोनों हैं समान कहती है।          
माँ तो बस माँ ही होती है।

प्रथम गुरू माँ करती वन्दन,                                
माँ की सीख हरपल रहती हैं।                                          
बालकपन और शैशव दोनों में,                              
धीमी सी आगे बढ़ती हैं ।                                   
माँ तो बस माँ ही होती है। 
                                             
मानो एक बार फिर बचपन,                                        
धीरे से खिसके है हरदम।                                          
माँ अनमोल और ममता की 
बेशकीमती बयार बहती है।     
माँ तो बस माँ ही होती है ।                                                   

देर सवेर की न कोई चिंता
छाँव धूप तपती रहती है।        
जिस आँगन बिखरे हों पत्ते,                                             
माँ बटोर सबको लेती है।                                 
माँ तो बस माँ ही होती है।

रचनाकार
श्रीमती नैमिष शर्मा  
सहायक अध्यापक
पूर्व माध्यमिक विद्यालय तेहरा   
वि०ख० मथुरा  
जिला- मथुरा      

No comments