Breaking News

दिखे चंद सिक्के


दिखे चंद सिक्के


किसे आदमी से मुहब्बत हुई है
दिखे चंद सिक्के सियासत हुई है

किया शर्म जिसने बिका है वही तो
खरीदी इबारत हक़ीकत हुई है

बड़े जोश में निकल हम भी दिए अब
मगर राह मुश्किल ज़हानत हुई है

रहा कौन साथी गरीबी में यहाँ
जहाँ देखिये बस इनायत हुई है

बहुत मुश्किलों से समेटा घरौंदा
मगर जान  आफत मसाफ़त हुई है



✍   लेखिका :
निरुपमा मिश्रा
शिक्षिका
जनपद : बाराबंकी

No comments