Breaking News

मन की अनुभूति

बालकपन की सहज अनुभूति,                      
प्रेम ममता है स्वीकारती।                          
आहिस्ता चलकर आये तो भी,                     
जाते जाते है सीख देती । 
                          
कभी हठ कभी बालकपन ,                        
अबोध शिशु धीरे धीरे यूँ ही बढ़े।                   
जैसे माली अपने उपवन की,                       
नित लता बेल हरपल चढ़े। 

फिर पुष्प खिले जैसे वैसे ही,                       
बाल सुगंध भी रंग लाये ।                    
अपनी बगिया का मालिक तब,                  
अंतसतल  से खुश हो जाए ।    
                                               
उसकी सुगंध मद मस्त पवन,                  
इत उत विखेरती जाती है                        
उसकी लगन, मेहनत,स्नेह सब,                                 
जुड़ जुड़ कर याद दिलाती है।          
                                                      
अपने मोल से ज्यादा उसके,              
मोल का भान जरुरी है ।              
जिसको सींचा तन मन धन से,     
उसकी उन्नति अब पूरी है।  

रचनाकार
श्रीमती नैमिष शर्मा 
सहायक अध्यापक
पूर्व माध्यमिक विद्यालय तेहरा   
वि०ख० मथुरा  
जिला- मथुरा      
                      

No comments