Breaking News

मेरी उत्कट अभीप्सा

मेरी उत्कट अभीप्सा

मैं भी पहुँचूंगा उस स्थल तक
भव असीम सिद्धि के जल तक

यत्र सफलता नृत्य हो करती
ख़ुशी तत्र हो गगरी भरती

कोलाहल एक नाद सुनाए
जहाँ भोर उठ सरगम गाये

हो उसांस के अद्भुत मेले
जहाँ लचकती कोमल बेले

हो आनंद हो मधुरिम छाया
सेवा करती जहाँ हो माया

तिमिर रैन कदाचित आये
सूर्यदेव बस रश्मि गिराएं

दुःख का न तो बोध तनिक हो
जीवन आभा श्रेष्ठ मणिक हो

जहाँ परम् तुष्टि हो साधक
तत्व न कोई रण का बाधक

भोग करूँगा उत्तम बल तक
मैं भी पहुँचूंगा उस स्थल तक..!!

✍️
'कविराज' दिग्विजय सिंह
शिक्षक-प्रा०वि०दलपतपुर
    जनपद-गोंडा

No comments