Breaking News

साथी



बीच सफ़र में साथ छोड़ दे
उस साथी की चाह नहीँ
प्रेम हमारा ऐसा हो
जिसकी कोई थाह नहीँ
बाहे जिसकी घर बन जाए
बातें जिसकी खजाना हों
प्यार का इक शब्द उसका
जैसे के नज़राना हो
कर्म धर्म की राह छोड़ दे
उस साथी की चाह नही
प्रेम हमारा ऐसा हो
जिसकी कोई थाह नही

No comments