Breaking News

हाल-ए-इंग्लिश मीडियम स्कूल


इंग्लिश मीडियम बन गये,
हैं सरकारी स्कूल,
शिक्षक कन्नी काट रहे,
अवसर है प्रतिकूल।

                 मातृभाषा है कैद हुई,
                 अंग्रेजी के जाल में,
                 हिंदी अब तो लुटी-पिटी
                 इंटरनेट के काल में।

दीन-हीन खेतिहर का बेटा,
अंग्रेजी पढ़ने जायेगा,
अंग्रेजी में बात करेगा,
ना निर्धन कहलायेगा।

                   गोली-कंचे, गुल्ली-डंडा,
                   चूल्हा-चक्की, गोबर-कंडा,
                   भूल-बिसर सब जायेगा,
                   गैस,कुकर,और ए0सी0,कूलर
                   हीटर, मिक्सी,वैक्युमक्लीनर
                   यही पढ़ाया जायेगा।

लुटिया, खटिया, सिलबटिया,
हिंदी है निर्धन की बिटिया,
सत्तू, घुघरी, चना-चबैना,
अंग्रेजी ना इनकी बहना।

                 बौर महकती अमराई,
                 सौंधी खुशबू मनभाई,
                 अंग्रेजी की हवा चली जो
                 भूले बच्चे पुरवाई।

हिंदी-अंग्रेजी की खिचड़ी,
सरपीट पकाई जायेगी,
आग जले ना ईंधन पावें,
अंग्रेज़ी गाल बजायेगी।



लेखिका
कविता तिवारी,
सह-समन्वयक
बी0आर0सी0, मलवां
जनपद फतेहपुर।
                



2 comments: