Breaking News

तितली के रंग

बचपन की प्यारी ताज़गी का ढंग अभी बाकी है
लम्हों में उनके जिंदगी का संग  अभी बाकी है
खो जाये न कहीं बचपन-सुकून-सपनों के बगीचे
नन्ही हथेली में तितली का रंग अभी बाकी है
---- निरुपमा मिश्रा "नीरू"

No comments