Breaking News

ग़ज़ल



शहर आकर ये बात जानी है
ज़िन्दगी गाँव की सुहानी है

बूँद हूँ ओस की मगर मुझसे
क्यूँ समन्दर ने हार मानी है

इक समंदर से मिल के खो जाना
हर नदी की यही कहानी है

राहे उल्फ़त से तुम नहीं डिगना
इक यही अम्न की निशानी है

दर्द ने लम्स से कहा यारा
चोट दिल पर बहुत पुरानी है

इश्क़ सीरत से तुम करो पाठक
रंग फ़ानी है रूप फ़ानी है

✍  ज्ञानेन्द्र 'पाठक'
      स0अ0
      प्रा वि ग्वालियर ग्रण्ट
      रेहराबाज़ार, बलरामपुर

1 comment: