Breaking News

एकांत

llएकांतll

जब कभी छिड़ते हैं
हजारों द्वन्द मन में
जब खोजने हो कुछ जबाब
स्वयं खुद में
आवश्यकता तब होती
कुछ अकेलेपन की

कुछ शीत हिमखंडों में
छायी चिर शान्ति की
शीत की उन
शरद हवाओं की
जो हर झोंकें में
झकझोर दें तन को
हर उठती सिहरन में
ढूंढे खुद में खुदको

तुझसे भाग नही
रहा में जिंदगी
बस चाह नही रहा
हर वक़्त तुझसे लड़ना
कुछ समय के लिए ही सही
तुझे खुद से है जीना
बस तुझसे लड़ने को
फिर खुद तैयार है होना
चाहता हूँ इसलिए
एकांत में कुछ जीना

✍  रचनाकार-
      चन्द्रहास शाक्य
      सहायक अध्यापक
      प्रा0 वि0 कल्याणपुर भरतार 2
      बाह, आगरा


No comments