मेरे पिता Skip to main content

मेरे पिता

पिता केवल शब्द नही था,
था मेरा पूरा संसार।
सुख दुःख धूप छांव,
सबमें जीवन का आधार।।
अकेले ही ढोते थे परिवार की,
उम्मीदों का भार।
कभी न रुकते,
कभी न माने थे वो हार।
गलतियों पर थे सख्त बहुत,
चटकाते थे मार।
फिर बन्द कमरों में,
चुपचाप बहाते थे वो नीर।।
खुद की शर्ट फटे या पैंट था मतलब नही,
मेरे लिये सदा रहता था कपड़ों का अम्बार।
अपनी चप्पल जोड़ गांठ कर चलता था काम,
मुझे दिलाते रहते थे मनपसन्द उपहार।।
बाबा की दवा खत्म होने से पहले,
रख देते थे लाकर।
दादी की सेवा के खातिर,
रख दी थी अपनी नौकरी भी ताक पर।।
मेरे पिता की महिमा बड़ी अनन्त,
इसको न मैं लिख पाऊंगा।
झुका शीश नित करूँ प्रणाम,
शायद एक दिन उन जैसा बन पाऊंगा।।

रचयिता
अभिषेक द्विवेदी "खामोश"
प्राथमिक विद्यालय मंनहापुर
सरवनखेड़ा कानपुर देहात।

Comments

सबसे अधिक लोकप्रिय रचनाएं

माँ और माँ की ममता

माँ तो बस माँ ही होती है,                                       
हर पल हर जगह होती है।                                 जिस आँगन में गूँजे किलकारी,                     उस आँगन की माँ छाँव होती है। 
माँ तो बस माँ ही होती है।                                                                        

पल हरपल बढ़ता बचपन ज्यों,                        
माँ हैं खुश और ममता बढ़ती है।                          नेय स्नेह वात्सल्य की वो मूरत                               
बयार सुगंध बन उपवन बहती है।            
माँ तो बस माँ ही होती है।                                                                                               हर मौसम यूँ ही आए जाए              हँसते-हँसते सब सहती है।                                            
आएगा कल जब ये उजला,                          
मोती बन निखरो कहती है।                                         
माँ तो बस माँ ही होती है।                                        
रहें खुशी से मेरे आत्मज,                                            
सब सुख और दुख भी सहत…

विश्वास

दो विश्वास हमें तुम इतना ,     टूट ना पायें हम कभी ।     

कर्तव्य पथ पर बढ़ते जाएँ ,   भूलें ना हम राह सही ।   हार की वेदी पर हम ,
  शीश ना कभी झुका पाएँ।              
चरण अभिनन्दन कर हिमगिरि का ,
अम्बर तक छा जाएँ ।                     अन्धकार के पर्वत को ,                  चूर चूर हम कर पाएँ ।           तिलक लगाकर मातृभूमि का ,       आगे कदम बढ़ाएँ ।                      वेदों की भाषा को हम ,   सम्पूर्ण विश्व में फैलाएँ,

जगत जननी माता के दर्शन ,         सारे जहाँ को करवाएँ  ।                  प्रेम हमारा हो इतना गहरा,             जाति भेद को मिटा पाएँ । सूर्य अलौकिक होकर हम ,             प्रकाश जगत में फैलाएँ । 
रचनाकार                   अर्चना रानी, सहायक अध्यापक, प्राथमिक विद्यालय मुरीदापुर, शाहाबाद, हरदोई।

स्कूल चलो, स्कूल चलो

घर बैठ करोगेक्या? स्कूल चलो स्कूलचलो।
पापा मम्मी सुनोफ़रियाद।
बाकी काम आने केबाद।।
स्कूल चलो स्कूलचलो।
घर बैठ करोगेक्या?                                      
भैया,दीदी छोडो सबकाम।
स्कूल चलो स्कूलचलो।
मिलेगानिःशुल्क प्रवेश, बैग, किताब।
स्कूल चलो स्कूलचलो।
घर बैठ करोगेक्या?                                                   
स्कूल चलो स्कूलचलो।
एमडीएम,फल, दूध से होगाअपना।
तन,

कैसा हो स्कूल हमारा

कैसा हो स्कूल हमारा,
कैसा हो स्कूल हमारा।

बच्चों की किलकारी हो,
पौधों की हरियाली हो।
जन-गण-मन से गूँजे
स्थल,
ऐसा हो प्रार्थना स्थल।
विद्यालय हो घर से प्यारा,
ऐसा हो स्कूल हमारा......

T.L.M. से सजा हो कक्ष,
पाठयोजना बनी हो दक्ष।
विद्यालय आए हर बच्चा हमारा,
ऐसा हो स्कूल हमारा.......

ड्रेस में हो हर एक बच्चा,
वातावरण भी बना हो अच्छा
समयसारिणी से संचालन पूरा,
ऐसा हो स्कूल हमारा..........

गुरुजन आएँ समय से स्कूल,
बच्चों की हो हर दुविधा दूर।
अब न रहेगा कोर्स अधूरा,
ऐसा हो स्कूल हमारा......

गुरुजन कहते बच्चे मेरे,
पढ़-लिखकर दूर करेंगे अंधेरे।
R.T.E. का होगा लक्ष्य पूरा,
ऐसा हो स्कूल हमारा........

शत-प्रतिशत नामांकन होगा,
देश अपना विकसित होगा।
साक्षर होगा स्कूल पूरा.....
ऐसा हो स्कूल हमारा.......




रचनाकार
अजीत कुमार श्रीवास्तव,

स0अ0, उ0प्रा0वि0 मोहम्मदपुर शुमाली,
सैदनगर, रामपुर


1 जुलाई

1 जुलाई खड़ा सामने 
              करता है संकेत ।
निकल गयी गर्मी की छुट्टी
          जैसे कि मुट्ठी से रेत ।।
तरह - तरह बातें फिर भी
           बता रहे थे अफसर ।
खूब दौड़ लगाया कागज
         इस दफ्तर उस दफ्तर ।।
साफ़ सफाई संग कर लो
              अब सब पूरी तैयारी ।
शिक्षण सत्र पुनः शुरू
        करने की है जिम्मेदारी ।।
तन मन को आराम मिला
          तो सोचो अच्छी बात ।
नई जोश व नई विधा से
             करना है शुरुआत ।।
होगी दिवस अनुसार कड़ाई
                प्रांगण में वृक्षारोपन ।
वादन के अनुसार पढ़ाई
            मीनू अनुसार हो भोजन ।।
तरह तरह के पत्र मिलेंगे
            भाँति भाँति फरमान ।
कभी निरीक्षण कभी है वितरण
        भाँति - भाँति गणना पहचान ।।
हो कैसी भी राह मगर
         उसको करना है आसान ।
विचलित होना नहीं कभी
          करते रहना शिक्षा का दान ।।
कभी - कभी शिक्षक लिटमस पेपर से
              पास कराये जाएंगे ।
तरह तरह के हथकंडे
             उन पर अपनाये जाएंगे ।।
सच्ची निष्ठा से अरुण हमें
             अपना फर्ज निभाना है ।
शिक्षक ही सच्चा उन्नायक
            ऐसा विश्वास दिलान…