Breaking News

प्यारी माँ

 कितना प्यारा शब्द है माँ
अपने बच्चे के लिए परमात्मा
अहसास करो रुह तक
अहसास करो मंदिर की घंटियो में
शंख की नाद में
मस्जिद के स्वर अल्लाह में
गायों के रंभाने में
बछ्ड़ों को बुलाने में
घोड़े के हिनहिनाने में
कोयल की कूक में
         रुह तक यह अहसास उतरे है
           शायद इस शब्द की व्याख्या परे है
            सागर की गहराई में
             आकाश की ऊँचाई में
           दूर क्षितिज तक जाने में
            बादल के सिमट आने में
माँ मे ईश्वर का नूर समाया है
जो बन जाती है केयर टेकर
बेटे के लिए कर देती
तन मन न्यौछावर
            वह केवल जान पाता है मां का प्यार
            वह असीम प्यार
             व्याख्या रहित
            अहसास रचित
  माँ होती ही है ऐसी
कठिन पगडंडी पर चलना सिखाती
काँंटो भरी राह में
खुशबूदार फूल बन जाती
हर पल विश्वास जगाती
सारा प्यार उड़ेल जाती
             जो सब कुछ देती
             कुछ भी न लेती
बस एक ही ऐसी माँ 
          बडे खुशनसीब होते हैं वो लोग
           जिनके पास माँ होती है
           वो प्यार जो परमात्मा का प्यार
          कोई नही दे सकता माँ देती है
अनाथ हो जाते है वो लोग
जिनकी माँ दूर चली जाती है
खुशियाँ छिन जाती है उनकी
जीने की कला खो जाती है
बन जाती है आकाश का तारा
फिर नही आती लौटकर दुबारा

सब कुछ लुट जाता
जो खो जाती है माँ 
वीरान हो जाती है जिन्दगी
जिनकी दूर हो जाती माँ
              हमारी माँ, तुम्हारी माँ
            दुलारी माँ, प्यारी माँ
हम सबकी माँ

रचनाकार
सारिका तिवारी, प्र0अ0,
उ0प्रा0वि0 फुलवामऊ,
वि0क्षे0 बहुआ,
जनपद फतेहपुर

      

No comments