Breaking News

सौर परिवार

सूरज है  सबका  मुखिया,  
आठ संतानों वाला।      
सब  इसकी परिक्रमा हैं करते,     
ये  है बड़ा  मतवाला।    
                   
बुध है देखो सबसे छोटा ,              
पास में इसके रहता है।                
इसी  वजह से छोटा  होकर भी ,      
सबसे गर्म ये लगता है।     
             
फिर आता है शुक्र  प्यारा ,            
टिम टिम करता तारा है।           
पर सतह इसकी खूब गरम,
दहकता हुआ अंगारा है।
 
सबसे पहले आकर फिर भी ,       
बाद मे सबके जाता है।                 
सबके दिल को भाता इतना,        
सबसे सुन्दर कहलाता है।    
        
फिर आती है पृथ्वी अपनी,           
जीवन सबको देती है।                  
हवा पानी सब इस पर रहते ,       
ये अनोखी कहलाती है।    
            
मंगल करता दंगल देखो,               
लाल लाल हो जाता है।                
जीवन की कल्पना इस पर करते,    
लाल ग्रह कहलाता है।                 
  
बृहस्पति है गुरु सबके राजा ,         
सबसे बड़े कहलाते हैं ।                
दूर बहुत है रहते इतना,                 
जान न इनको पाते हैं।     
              
नाम शनि है घेरा एक,                     
चारों ओर है रहता।                       
वलय  नाम है इस कवच का ,       
साथ मे हरदम रहता।     
               
बाद मे आते है अरुण वरुण,           
कुछ नहीं कह पाते हैं,                   
अंधेरे मे रहते है ,                          
नजर नही  ये आते हैं।   

रचनाकार                  
अर्चना रानी,
सहायक अध्यापक,
प्राथमिक विद्यालय मुरीदापुर,
शाहाबाद, हरदोई।

No comments