Breaking News

जो व्यर्थ समय को खोएगा

जो व्यर्थ समय को खोएगा
अवसर जाने पर रोयेगा
********************
धारा में नाविक से झगडा
निश्चय वो नाव डुबोयेगा
*******************
जो कर्म किये हैं उभरेंगे
कब तक दागों को धोयेगा
********************
मत बांध गठरिया पापों की
वरना जीवन भर ढोयेगा
********************
जिस मन में समरसता होगी
सपने भी वही संजोयेगा
*******************
क्या खाक जगायेगा जग को
जो दिवस निशा बस सोयेगा
- पुष्पेन्द्र यादव

1 comment: