Breaking News

कथा सुनो शबाब की

   
     कथा सुनो शबाब की
     सवाल की जवाब की
     कली खिली गुलाब की
     बड़े  हसीन  ख़ाब  की
              नया नया विहान था
              घड़ी घड़ी गुमान था
              हसीन सा बहाव था
              जुड़ाव था लगाव था
      तभी विपत्ति आ गई
     तुषार  वृष्टि  छा गई
      बहार को  बहा  गई
      ख़ुमार  हो  हवा गई
              नक़ाब में रक़ीब थे
              सभी वही क़रीब थे
           हमीं बड़े अजीब थे
           हमीं  बड़े  ग़रीब थे
              





रचना- निर्दोष दीक्षित
_________________________________
काव्य विधा- प्रमाणिका छंद
विधान- लघु गुरु के 4 जोड़े, चार चरण
मात्राभार- (12 12 12 12 )4

No comments